PPI क्या है और कितना PPI अच्छा होता है – What is PPI in Hindi

ppi-kya-hai-hindi

जब आप किसी Phone लेते हो उसमे लिखा होता है इस फ़ोन का display 480 ppi density ऐसा कुछ लिखा हुआ होता है ,यह क्या होता है। मैं आपको इस लेख में माध्यम से PPI क्या है (What is PPI in Hindi) और यह एक display को कैसे अच्छा बनाता है बताने वाला हूँ।

एक phone को attractive बनाता है उसका appearance और display ,अगर display का resolution काम है तोह यह लोगों को उतना आकर्षित नहीं कर पाता। इसीलिए चाहिए होता है एक अच्छा स्क्रीन जिसे देखते ही phone में से reality निकल के आ जाये। एक अच्छा pixel density होना मतलब display को उल्टा अच्छा माना जाता है ,आप खुद इसे परख सकते हैं दो तीन mobile को compare करोगे तोह।

तोह चलिए समझने में कोशिश करते हैं की Pixel density क्या होता है और यह एक display को इतना अच्छे होने में कैसे मददगार होता है।

PPI density क्या है (What is PPI in Hindi)

PPI का full form है Pixel Per Inch। कभी आपने अपने mobile या फिर computer का display को नज़दीकी से देखा है ,display बहोत सारे छोटे छोटे square components से बने होते है उसको pixel कहते हैं। यह display का resolution और color adjustment में मददगार होते हैं। Display के size के अनुसार pixel होते हैं , display के per square में जितना pixels होते हैं उसीको ही PPI यानिकि Pixels Per Inch कहते हैं।

PPi-क्या-है-hindi

यह हमेशा नहीं की pixels सिर्फ square shape का हो ,कभी कभी इसका आकर dots के तरह भी होते हैं ,उन्हें DPI यानिकि Dots Per Inch कहते हैं।

Definition of PPI Density – Pixels present per square inch of a display is known as PPI . In case of Dots ,it’s known as Dots Per Inch

PPI कैसे काम करता है (How does PPI work)

एक display में महजूद है एक Pixels बने होते हैं छोटे छोटे ३ Sub-pixels से ,यह दरहसल color pigments होते हैं। Blue , Green और Red यह सब normally जितने भी color हैं इस दुनिया मैं सबको generate कर सकते हैं और एक display में एक अच्छा quality का picture दिखाना भी इनका कमाल है।

अब सवाल आता है की यह pigments काम कैसे करते हैं , चलिए इसे समझते हैं।

Color pigments आने वाले colors को filter करके सिर्फ ज़रूरी pigments को absorb करते हैं और बाकि को block करते हैं यानि बाकियों को आने से रोकते हैं। इसी वजह से हमे एक अच्छा colorful picture देखने को मिलता है।

Display क्या है ?

Computer क्या है ?

कितना PPI अच्छा होता है एक अच्छा Resolution के लिए

यह सचमे एक मुश्किल सवाल है ,इसका जवाब शायद ही किसीके पास हो। हम इतना तोह जानते हैं की आजकल ज्यादातर कंपनी अपने devices में ज्यादा PPI का इस्तेमल कर रहे हैं ताकि picture quality अच्छा आये और user को एक अच्छा अनुभव मिले। अब यह भी सही है की किसीभी चीज़ का ज्यादा होना अच्छा नहीं होता सबका एक limit होता है ,जी हाँ इसका भी एक limit है। मेरा मनना है की लगभग 570PPI का होना ठीक है पर इससे ज्यादा हो जाये तोह picture को देखना मुश्किल हो जायेगा ज्यादा color pigments के वजह से।

Mobile और computer केलिए कितना PPI अच्छा है

मान लीजिये आप कोई phone या computer खरीद रहे हैं और एक का size बड़ा है और एक का छोटा पर PPI छोटे में ज्यादा और बड़े में काम। अब आप क्या करेंगे बड़ा screen लेंगे या छोटा ?

PPI में फरक पड़ता है ,जितना ज्यादा Pixels होंगे आप उतना साफ़ picture पा सकेंगे और अगर डिस्प्ले साइज के तुलना में काम PPI है तो उसमे picture का क्वालिटी ख़राब होनेका डर रहता है। pixels का density हमेशा Screen size के हिसाब से ही रहना चाहिए।

जब भी आप किसी device ले तोह या ज़रूर देखना की ज्यादा PPI हो और उसके साथ ही एक अच्छा screen size भी मिलता हो।

PPI क्या है से आपने क्या सीखा

आशा करता हूँ की आपको यह लेख PPI क्या है (What is PPI in Hindi) पसंद आया होगा ,मैंने ऊपर कोशिश की है की आपको जितना आसान हो सके उतना आसान भाषा में समझने की। वैसे तोह इसे जानना इतना मुश्किल नहीं था क्यूंकि यह एक बहोत छोटा सा term था। फिर भी अगर आपको कुछ जानने में दिक्कत आयी हो तोह आप निचे comment में पूछ सकते हैं मैं जवाब देने की कशिश करूँगा।

और एक आखरी गुज़ारिश यह है की अगर आप किसी और को इसके बारेमे बताना चाहते है तिह यह लेख social media के द्वारा share करदिजिये।

 

 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments