Home » computer » Computer क्या है कंप्यूटर के प्रकार, उपयोग, विशेषताएँ, लाभ और हानि

Computer क्या है कंप्यूटर के प्रकार, उपयोग, विशेषताएँ, लाभ और हानि

Computer kya hai

जब बात Technology की आती है तो सबसे पहला स्थान Computer का आता हैं और आना भी चाहिए क्योंकि यह एक ऐसा यन्त्र है जो हम सबको Technology से जुड़े रखती है इसके बिना कुछ भी मुमकिन नहीं है।

आज हम इस आर्टिकल में कंप्यूटर की जानकारी पढ़ने वाले हैं तो चलिए कंप्यूटर की समस्त जानकारी को पढ़ना शुरू करते हैं।

कंप्यूटर क्या होता है

कंप्यूटर को अगर हम आसान भाषा में समझे तो यह एक यन्त्र है जो की हर बड़े बड़े काम को बहुत ही आसानी से कर देता है। अब थोड़ी Educational दृष्टि से बताता हूँ। Computer एक Data Processing Unit है जो की कंप्यूटर को जो डाटा दिया जाता है उसको Analyse करके Processing करता है और हमे Output देता है।

DATA INPUT   →  PROCESSSING  →  OUTPUT

computerr-kya-hai

Computer का नाम Latin शब्द Compute से लिया गया है जिसका मतलब हिसाब करना है। इसको सबसे पहले बड़े-बड़े गणित के अंक को जल्दी से करने लिए बनाया गया था जो की आज के टाइम में Technology का राजा बन चूका है।

कंप्यूटर को Charles Babbage ने 1883 में बनाया था जिनको Father of Computer कहा जाता है।

कंप्यूटर का Full Form क्या है

वैसे देखा जाये तो सही मायने में कंप्यूटर का कोई Full Form नहीं है, क्योंकि कंप्यूटर शब्द “गणना” शब्द से लिया गया एक शब्द है जिसका अर्थ गणना करना है। सरल शब्दों में आप कह सकते हैं कि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जिसका उपयोग तेजी से गणना के लिए किया जाता है।

Greek शब्द Compute और Latin शब्द Computare से Computer शब्द का उत्पत्ति हुआ था, इस लिए काफी लोगो का मानना है की Computer का सही में कोई Full Form ही नहीं हैं फिर भी अगर आपके मन में यह सवाल आता है की Computer शब्द का पूरा नाम क्या है तो इसका सवाल का जवाब कुछ इस तरह से दिया जा सकता है। 

C O M P U T E R का Full Form :- Commonly Operated Machine Particularly User for Technical and Research 

CCommonly
OOperated
MMachine
PParticularly
UUsed for
TTechnical and
EEducational
RResearch

कंप्यूटर का हिंदी में पूरा नाम क्या है

हिंदी में कंप्यूटर का पूरा नाम होगा सी ओ एम पी यू टी ई आर :- आम तौर पर संचालित मशीन विशेष रूप से प्रयुक्त तकनीकी शैक्षणिक अनुसंधान।

सीआम तौर पर
संचालित
एममशीन
पीविशेष रूप से
यूप्रयुक्त
टीतकनीकी
शैक्षणिक
आरअनुसंधान

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं

कंप्यूटर को उसके काम के हिसाब से अलग-अलग प्रकार में शामिल किया गया है।

  1. Analog Computer
  2. Digital Computer

1. Analog Computer

Analog Computer ज्यादातर अस्पताल Geographical सर्वे और Scientific Research करते समय इस्तेमाल होते हैं। यह Output को Signals Waves के रिप मैं दिखाई देते है। इस प्रकार के कम्प्यूटरों को आपने सभी अस्पताल में मरीज के पास देखा होगा जिसके सहारे उनका Blood Pressure और Heart Beat नापा जाता है।

2. Digital Computer

Digital Computer वह कंप्यूटर है जिससे हम अपने रेगुलर जीवन में हर समय इस्तेमाल करते हैं जैसे की मान लीजिये घर में जो Laptop और PC है यह एक डिजिटल कंप्यूटर हैं।

आकार के हिसाब से Computer के प्रकार

1. Super Computer :- Super Computer इस विभाग के सबसे बड़े कंप्यूटर है। ये कंप्यूटर बड़े होने के साथ उतने तेज और महंगे भी होते है। सुपर कंप्यूटर को दुनिया का सबसे तेज कंप्यूटर माना जाता है।

इन कंप्यूटर को ज्यादातर बड़े विभाग जैसे की मौसम विभाग, बड़ी-बड़ी फिल्म बनाने में और परमाणु विभाग में इनका इस्तेमाल किया जाता हैं।

2. Mainframe Computer :- इसका आकर इतना बड़ा होता है की इसके लिए अलग से एक कमरे की जरूरत पढ़ती है। इस तरह के कंप्यूटर एक साथ बहुत सारे कंप्यूटर को आपस में जोड़े रखते है। हम सब सर्वर क्या है तो जानते हैं यह एक तरह का Mainframe Computer है।

Personal Computer

1). Desktop :- जो कंप्यूटर हम घर पर इस्तेमाल करते हैं PC कहते हैं उसे डेस्कटॉप कंप्यूटर कहा जाता है। इस तरह के कंप्यूटर दुनिया का सबसे पहला Digital Computer हैं। इसे हम अपने घर के किसी भी Desk पर रख कर आसानी से चला सकते हैं इसके आधार से इसको Desktop कहा जाता है।

2). Laptop :- लैपटॉप हल्का और Portable होता है हम जहाँ चाहें इसे लेकर जा सकते हैं और अपना काम कर सकते हैं।

3). Tablet :- यह एक तरह का Handset है जिसे हम आसानी से अपने हाथ में लेकर चला सकते हैं। इसमें कोई Hardware नहीं होते सब Integrated होते हैं और यह Touchscreen से चलती है।

कंप्यूटर के मूल यूनिट्स क्या है

आपने अगर कंप्यूटर देखा होगा तो इसके आजु-बाजु जो बड़े-छोटे Machine होते है वह सब कंप्यूटर के एक एक यूनिट्स हैं जिसके बिना कंप्यूटर On भी नहीं हो सकता।

यह सब सिर्फ दिखने में ज्यादा Complicated लगते हैं पर इनका कार्य बहुत सरल होता है।

computer-kya-hai

1). Motherboard :- यह कंप्यूटर का Power Source होता है इसके सहारे सारे Connection कंप्यूटर तक जाते हैं। यह एक पतली Plastic या फिर Aluminium से बने box की तरह दिखता है। इसके अंदर CPU, Hard-Drive, Audio Control करने के लिए बटन्स और बहुत सारे Ports होते हैं जो की Wires सीधा कंप्यूटर के साथ जुड़ता है।

2). CPU :- यह एक Chip की तरह होता है जिसे Motherboard के अंदर लगाया जाता है। यह पूरे कंप्यूटर का दिमाग होता है यही सारे Data को Process करके Output दिलाता है। जिस कंप्यूटर का CPU जितना Strong होता है वह उतना ही तेज होता है।

3). RAM :- RAM जिसे हम Random Access Memory के नाम से जानते हे। यह एक साधारण सी बात है आज हर कोई जब Smart Phone खरीदने जाता है तो सबसे पहले RAM ही देखता हे।

इसे आप Computer का Temporary Data Storage भी कह सकते हैं क्योंकि यह डाटा को अपने अंदर सिर्फ कुछ ही पल के लिए Store करके रख पाता है।

जब आप कोई काम कर रहे है और गलती से वह Tab बंद हो गया या फिर खो गया वह हम वापस ला सकते हैं क्योंकि RAM उसे तब तक Store करके रखता है जब तक हम उसे Clear न कर दे या कंप्यूटर बंद ना कर दे।

4). Hard-Drive :- कंप्यूटर के अंदर जितना भी Data होता है या हम उसे देते हैं वह सब Hard-Disk के अंदर सुरक्षित रहता है। यह Computer का Treasure की तरह होता हैं।

कंप्यूटर के कुछ External Hard Wares :- कंप्यूटर के कुछ हार्डवेयर ऐसे भी है जो की बहुत से काम करते हैं। जैसे की Keyboard, Mouse, Joystick, Speakers आदि।

  • Keyboard :- यह एक External Hardware है जिसके सहारे हम अपने डाटा को कंप्यूटर के अंदर भेजते हैं। यह कंप्यूटर को Command Pass करने में भी इस्तेमाल होता है।
  • Mouse :- यह एक Hand-Held डिवाइस होता है जो हमे बहुत आसानी से कंप्यूटर के किसी स्वतंत्र file को अपने Pointer के जरिये चुनने में मदद करता है।
  • Joystick :- यह एक External हार्डवेयर है जिसे केबल Video Games खेलने में ज्यादातर इस्तेमाल किया जाता है।

कंप्यूटर काम कैसे करता है

जैसे की हम जानते है की कंप्यूटर सिर्फ 3 Principle से चलता है।

Input → Processing → Output

1). Input :- सबसे पहले हम जो काम कंप्यूटर से करवाना चाहते हैं उसको Input Device के जरिये Input किया जाता है। क्योंकि कंप्यूटर को सिर्फ Binary Language ही समझ में आती है इसीलिए Command Binary इसके अंदर जाता है।

2). Processing :- डाटा Insert होने के बाद यह अंदर ही अंदर कार्य को अंजाम देता है यह एक Internal Process होता है जो की इसके अगले पड़ाव मैं दिखाई देता है।

3). Output :- काम खत्म होने के बाद हमे Result मिलता है उसे हम Output कहते हैं।

कंप्यूटर का विकास कैसे हुआ

जब कंप्यूटर शुरू किए गए थे, तो एक कंप्यूटर केवल एक कार्य करने में सक्षम था, लेकिन आज विकास के कारण, एक समय में एक कंप्यूटर कई कार्यों को संभाल सकता है, और इसमें कृत्रिम बुद्धिमत्ता आ रही है।

हम कंप्यूटर के क्रमिक विकास को इन पाँच भागों में विभाजित कर सकते हैं।

  • फर्स्ट जेनरेशन कंप्यूटर्स – बेस्ट ऑन वेक्यूम ट्यूब (1940-1956)
  • 2nd जेनरेशन कंप्यूटर-  बेस्ड ऑन ट्रांजिस्टर (1956-1963)
  • थर्ड जेनरेशन कंप्यूटर्स-  बेस्ट ऑन इंटीग्रेटेड सर्किट (1964-1971)
  • फोर्थ जेनरेशन कंप्यूटर्स-  बेस्ट ऑन माइक्रोप्रोसेसर (1971- अभी तक)
  • 5th जेनरेशन कंप्यूटर – अभी चल रहा है, और भविष्य में भी इसी का प्रयोग होगा, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के साथ

जब कंप्यूटर 50 के दशक में निर्मित होने लगे थे, तो कंप्यूटर का आकार बहुत बड़ा था, पहले वैक्यूम-आधारित कंप्यूटर का आकार एक कमरे के बराबर था, और यह केवल एक ही काम कर सकता था।

आज अधिकतर लोग कंप्यूटर के दो रूप, डेक्सटॉप या पर्सनल कंप्यूटर और लैपटॉप का प्रयोग करते हैं लैपटॉप को कहीं लेकर आने-जाने में बहुत सुविधा होती है, इसीलिए आज बहुत सारे लोग लैपटॉप पर ही अपना जरूरी काम करते हैं। वहीं ऑफिस में आज भी कंप्यूटर का प्रयोग बड़े स्तर पर होता है।

कंप्यूटर की विशेषताएँ क्या है

जैसे की हम जानते हैं ऐसा कोई काम नहीं जो कंप्यूटर नहीं कर सकता। जितनी बड़ी मुसीबत भी क्यों न आ जाये यह उसको चुटकी मैं समाधान कर देता है। साधारण हिसाब से लेकर बड़े-बड़े Satellites तक समाचार पहुँचना तक यह सब कर सकता है।

1. Multi-Tasking

Multi-Tasking कंप्यूटर की सबसे बड़ी विशेषता है। एक साथ अनेक कामों को करने के लिए हम Multi-Tasking कहते हैं।

मान लीजिये हम कुछ काम कर रहे हैं और हमें इसके बारे में कुछ पता नहीं है तो हमारे दिमाग में पहला Idea यह आएगा की चलो Internet से खोज लेते हैं। फिर जब हम उसे खोजने जाते हैं पहले वाला खो जाता है, ऐसे ही Situation में Multi-tasking काम आता है। अगर Multi-tasking नहीं होता तो शायद ही कोई कंप्यूटर खरीदता।

2. Data Storage

किसी भी चीज को स्टोर करना कौन नहीं चाहता चाहे वह कोई डॉक्यूमेंट हो या फिर कोई Multimedia File। हमें सब को सम्भाल के रखना होता है इसीलिए हम कंप्यूटर का सहारा लेते हैं।

हम कंप्यूटर में जब तक चाहें तब तक Data को सम्भाल के रख सकते है। यह सब कंप्यूटर के अंदर इसके Hard-Drive में Save हो कर रहता है User जब चाहे इसे Access कर पाता है।

3. Security

कंप्यूटर को कुछ लोग अपना पर्सनल तिजोरी भी कहते हैं क्योंकि जो भी Data इसके अंदर Store होकर रहता है वह पूरी तरह से सुरक्षित रहता है। इसलिए हर कोई इस पर इतना भरोसा करता हैं।

जब तक आप खुद इसे Access नहीं करते या फिर आप किसी को Authorized नहीं करते इसको कोई देख भी नहीं सकता।

4. Speed

यह हर काम को चुटकी भर में कर लेता है। कंप्यूटर को हम कम समय में और जटिल रूप से करने के लिए ही Use करते हैं।

कंप्यूटर का उपयोग

कंप्यूटर छोटे से हिसाब से लेकर बड़े-बड़े Space Mission को करने की काबिलियत रखता है। आजकल के डिजिटल जमाने में हर क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग हो रहा है। इनमे से कुछ को हम नीचे पढ़ने वाले हैं।

Science and Research

Science एक ऐसा Field है जहाँ थोड़ी सी भी गलती से बहुत बड़ी मुसीबत भी आ सकती है। कंप्यूटर को यह सब मुसीबत से बचने के लिए इसमें इस्तेमाल किया जाता है।

इसकी मदद से किसी भी काम को Programming के द्वारा अपने आप कराया जाता है।

आज हमारी दुनिया चाँद तक पहुँच चुकी है यह सब कंप्यूटर की वजह से मुमकिन हो पाया है नहीं तो आज भी हम पुराने जमाने में Technology के बिना जी रहे होते।

Education

जब भी बात पढ़ाई की आयी है कंप्यूटर का नाम न आये यह हो नहीं सकता। क्योंकि यही वह पड़ाव है जब हम कंप्यूटर को चलना सीखते हैं। क्योंकि आने वाल्व समय मैं इसकी बहुत जरूरत पढ़ने वाली है। अगर मैंने आज Computer ना सीखी होती तो शायद यह नहीं लिख पाता।

इसी वजह से कंप्यूटर Education को Compulsory शिक्षा के रूप में स्वीकार किया जा चूका है।

Health

Health के Field में भी यह भगवान बन कर हमारे बीच आया। आज जितनी भी Operations, Medicine बनना मुमकिन हो रहा है वह सब का श्रेय कंप्यूटर को जाता है।

हॉस्पिटल में use होने वाली हर एक Machine एक-एक कंप्यूटर है इसके बिना कोई भी रोग का इलाज होना भी आज के समय में मुमकिन नहीं हैं।

में यकीन के साथ कह सकता हूँ की Covid-19 का भी इलाज इसी Computer की वजह से ही Possible हो पाया।

Defence

इसका इस्तेमाल दुष्कर्मों के ऊपर नजर रखने के लिए किया जाता है। इसमें जो यन्त्र इस्तेमाल होता उसे हम RADAR कहते है। इसके सहारे Weapon Targeting, Communication और भी बहुत सारे कार्य किये जाते है।

Entertainment

कंप्यूटर सबके लिए एक मनोरंजन का जरिया बन गया है। इसमें सब Games खेलकर, Film देखकर या फिर Songs सुनकर अपने आपको मनोरंजन करते है।

कंप्यूटर के कुछ फायदे

कंप्यूटर के कारण आज हमारा काम करने का तरीका पूरी तरह बदल गया है कंप्यूटर के कुछ फायदे निम्न है-

  1. मल्टी टास्किंग :- कंप्यूटर का सबसे बड़ा फायदा यह है, कि कोई कंप्यूटर एक साथ कई काम को कर सकता है, आज का कंप्यूटर हर सेकंड हजारों कंस्ट्रक्शन को फॉलो कर रहा होता है।
  2. एक्यूरेसी :- कोई भी कंप्यूटर किसी काम को बिना किसी गलती के दिए गए कंस्ट्रक्शन और पहले से निर्धारित नियमों के अनुसार करता है।
  3. स्पीड :- आज के एडवांस कंप्यूटर बड़े-बड़े काम को पल भर में करने में सक्षम है।

कंप्यूटर से होने वाली हानि

  • कंप्यूटर का इस्तेमाल करने से जितना हमें लाभ मिलता है उतनी हानि भी मिलती है।
  • कुछ लोग कंप्यूटर की मदद से बहुत से क्राइम भी करते हैं।
  • सिर्फ एक Well Programmed Mail से आपके पुरे कंप्यूटर को हैक किया जा सकता है।
  • Programmers Virus को मेल के जरिया भेजते हैं और कंप्यूटर को हैक करके सारा Data चुरा लेते हैं। इसको साइबर क्राइम माना जाता है यह कानूनन एक अपराध है।

Note :- ऐसे Cyber Crimes से बचने के लिए कंप्यूटर में Anti-Virus का होना बहुत जरुरी है। यह हमको Cyber-Crime से बचाता है और हमारे डाटा को सुरक्षित रखता है।

कंप्यूटर का भविष्य क्या है

यह सबका मानना है कई कंप्यूटर आने वाले दिनों में इंसानियत की पूरी काया ही पलट देगा क्योंकि जिस हिसाब से यह अपने Technologies के ऊपर काम कर रहा है और हर साल एक नया नया Processor का आविष्कार कर रहा है उस हिसाब से देखा जाये तो आने वाले कुछ ही सालो में हमारे बीच Super Computer से भी तेज कोई कंप्यूटर होगा।

कंप्यूटर कि मदद से भविष्य में Rocket and Space Science के ऊपर बहुत बदलाव आने वाला है। जैसे की 2023 में दुनिया का पहला Manned Mars Mission होने वाला है जिसे की Artemis Mission नाम दिया गया है।

शायद ऐसी कोई चीज बन जाए जो अपने आप ही खुद को Command दे और सारे काम कर जाये। कुछ कह नहीं सकते कितना दूर यह Develop करेगा।
इन सब बातों से यह तो पक्का है की कंप्यूटर का भविष्य उज्जवल है।

कंप्यूटर के कुछ प्रसिद्ध ब्रांड

  1. HP
  2. Lenovo
  3. MI
  4. Acer
  5. DELL
  6. MacBook (apple)
  7. HCL

जरूर पढ़िए :

Conclusion

उम्मीद हैं कि कम्प्यूटर की समस्त जानकारी आपको पसंद आयी होगी। अब आप सबको पता चल गया होगा कि कंप्यूटर क्या है। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आपसे गुजारिश है की आप इस आर्टिकल को Social Media पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करेंगे।

अगर आपको कुछ जानकारी समझ में नहीं आई या फिर आपको लगता हैं कि कुछ गलत जानकारी दी है तो आप नीचे कमेंट करके बता सकते हैं जिससे हमें सुधारने का मौका मिल सकें।

2 thoughts on “Computer क्या है कंप्यूटर के प्रकार, उपयोग, विशेषताएँ, लाभ और हानि”

  1. Nice post, I have been surfing online more than 3 hours today, yet I never found
    any interesting article like yours. It is pretty worth
    enough for me. In my view, if all web owners and bloggers made good content
    as you did, the internet will be much more useful than ever before.
    There is certainly a lot to know about this issue.

    I love all of the points you’ve made. I am sure this post
    has touched all the internet viewers, its really really good post on building up new weblog.

Leave a Comment

Your email address will not be published.