Broadband क्या है और यह कैसे काम करता है

broadband-क्या-है-hindi

एक unlimited fast internet connection किसको नहीं चाहिए , हर कोई जब internet खोजते हैं तोह Fast connection को ही prefer करते हैं। ऐसे मैं Broadband की बात ना आये यह तोह नहीं हो सकता ,broadband एक unlimited fast internet provider है जिसके बारेमे सबको थोड़ा बहोत पता होगा। आजके लेखमे हम Broadband क्या है (What is Broadband in Hindi) और इससे जुडी कईन और बातें भी सीखेंगे।

इसे ज्यादातर घरो में और business purpose केलिए इस्तेमल किया जाता है। यह normal dial-up से बहोत fast और easy to use होता है क्यों की इसमें हमे बार बार number dial करके connect करना नहीं पड़ता। यह broadband हमेशा एक fixed जगह पर होता है और हमेशा on रहता है इसलिए इसको Always on भी कहते हैं।

आज हम यह क्या है तोह जानेंगे ही इसके साथ ही इसके प्रकार और इसके कुछ advantage और disadvantage के बारेमे भी बात करेंगे। तोह चलिए शीघ्र बिषय पर आते हैं।

Broadband क्या है (What is Broadband in Hindi)

Broadband मतलब होता है एक widely used bandwidth। जो की एक wide frequency का इस्तेमाल करके multiple channel पर data transmit करता है। Broad मतलब ब्यापक और band का मतलब होता है bandwidth ,इसीलिए इसका नामकरण कुछ इसतरह किया गया है। यह ज्यादातर telecommunication providers के द्वारा offer किया जाता है एक reasonable कीमत पर ,यही एक कारण है इसके इतना popularity का।

यह दूसरे connections जैसे की हमारा traditional Dial-up connection से बहोत ज्यादा fast और better होता है। इसमें हमेशा number dial करके connect करना नहीं पड़ता ,एक बार जुड़ने के बाद दोबारा से जोड़ना नहीं पड़ता और यह हमेशा On रहता है ,इसीलिए इसका दूसरा नाम Always ON भी है।

इस ISP में channel का bandwidth जितना ज्यादा होगा ,उतना ही ज्यादा इसका data carrying capacity होगा। पर कुछ factors जैसे की User के घर से internet provider facility की दुरी की वजह से speed में कभी कबार कुछ फरक देखने को मिलता है।

सं 1990 में Broadband को एक marketing term के रूप में इतेमाल किया जा रहा था internet को ज्याद बढ़ावा देने वास्ते। और यह होना ही था क्यों की जो Dial-up connection था उसमे सिर्फ 56 kilobytes तक का speed था और Broadband उसके मुकाबले बहोत तेज़ था।

यह तोह कुछ basic बातें हो गयी Broadband के बारेमे ,इसके भी काईन प्रकार होते हैं जिन सबके बारेमे आईये हम निचे जानते हैं।

Broadband के प्रकार क्या है (Types of Broadband in Hindi)

Broadband को इसके Connection method , Speed और use को देखते हुए कुछ श्रेणी में भाग किया गया है। और सबके अलग अलग गन है जो की एक दूसरे से इनको अलग करता है। हम जिन सबके बारेमे पढ़ने वाले है सबमे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला Broadband है DSL (Digital subscriber line)।

DSL

Digital subscriber line जिसे की हम DSL कहते हैं ,यह सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला Broadband है क्यूंकि यह fast ,budget friendly और easy to access होता है। इसमें Data transmission घरो म इस्तेमाल होने वाले telephone lines जो की copper के बने होते हैं ,इनके जरिये होता है। यह ज्यादा तर घरो में और business में इस्तेमाल होते हैं क्यों की यह fast internet provide करने में साक्ष्यं होता है। इसकी speed 500 kilobytes से लेकर millions kilobytes तक भी जा सकती है जो की dial-up से कईन गुना ज्यादा है।

इसकी speed हमेशा बरक़रार नहीं रहती और हर कोई इसे इस्तेमाल नहीं कर पाटा क्यों की कुछ ऐसे factors होते हैं जो की यहाँ बढ़ा बनते हैं। Telephone facility से घर की दुरी ,wire की quality और सही telephone operator यही तीन चीज़ speed को बढ़ाने और घटाने में
बहोत बड़ा role play करते हैं।

इसके 2 types होते हैं।

ADSL (Asymmetrical DSL ) – इस तरह का DSL जो लोग internet को सिर्फ surfing के purpose करते हैं जैसे की हम लोग और सारे households केलिए best माना जाता है। इसमें Downloading speed ज्यादा होती है Uploading के मुअकबले लगभग 1.5 Mbps .

SDSL (Symmetrical DSL) – यह Business purpose केलिए इस्तेमाल किया जाता है। business में बहोत सारे ऐसे काम होते हैं जिसमे की ज्यादा Bandwidth की ज़रूरत पड़ती है जैसे की video conferencing ,इसीलिए SDSL बेस्ट होता है।

Cable Module

इस तरह का Broadband facility किसी भी cable operator के द्वारा provide किया जाता है जो की घरों में आयी हुई coaxial television cable में ज़रिये मुमकिन हो पाता है। आप Televison में picture देखने के साथ साथ internet का भी लुफ्त उठा सकते हैं इसमें आपके मनोरंजन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

इसमें सिर्फ आपको करना यह होता है की computer को cable से जोड़कर एक बार on करना पड़ता है , dial-up की तरह बार बार आपको switch on करना नहीं पड़ता।

इसकी speed 1.5 Mbps तक रहता है।

Fiber

Fiber मतलब होता है Glass fiber ,यह एक तरह का Data transmission करने का माध्यम होता है। यह electrical signal को light में convert कर इसे Glass fiber के मदद से data transmit करता है।

Normal DSL के मुकाबले यह ज्यादा fast होता है और आप इसका लाभ किसी भी telecommunication company से बात करके उठा सकते हैं।

Wireless

यह एक तरह का Radio link के ज़रिये user और internet के बीच data transmit करता है। इसकी speed normal cable broadband जैसे रहती है।

इसका एक problem यह है की यह easy to use नहीं होता ,इसे इस्तेमल करने हेतु हमे एक antenna की ज़रूरत पड़ती है जो की सिर्फ fixed रहने पर ही सही से चलता है।

Satellite

हर जगह cable और radio link के मदद से internet नहीं provide नहीं किया जा सकता इसीलिए satellite connection को लाया गया। दुनिया में जितने remote areas हैं जहाँ की internet की अच्छी सुबिधा नहीं मिलती वहां पर satellite के ज़रिये internet provide किया जाता है।

यह दुसरो के मुकाबले बहोत slow होता है।

Download speed – 500 kbps और upload speed – 80 kbps

Must Read

Dark Web क्या होता है ?

Internet कैसे काम करता है ?

Advantages of Broadband क्या है 

अब बहोत और तरह के internet connection आ चुके हैं पर अभी भी इसके कुछ लाभ ऐसे हैं जिसके लिए broadband को आज भी लोग पसंद करते हैं। चलिए इनही advantage को जानते हैं।

  • Always On रहता है – Broadband की एक ख़ास बात यह है की यह always on रहता है मतलब आपको बार बार connect करने केलिए dial करना नहीं पड़ता एक बार connect हो जाये तोह दोबारा कुछ करना नहीं पड़ता।
  • Budget friendly होता है – दूसरे internet service के मुकाबले यह बहोत सस्ता होता है। कुछ providers इसे मेहेंगे में बेचते हैं पर अगर आप एक अच्छा provider चुन पाएं तोह आप एक सस्ता internet का लाभ उठा सकते हैं।
  • Fast होता है – यह बहोत fast internet connection provide करता है।
  • Unlimited access देता है – अगर आप unlimited download करना चाहत है तोह Broadband आप केलिए best option है यह आपको कम पैसे में unlimited और fast internet देता है।

Disadvantage of Broadband क्या है 

Advantages के मुकाबले इसमें बहोत काम disadvantage है फिर भी हम इसे अनदेखा नहीं कर सकते। कुछ important disadvantage को आईये जानते हैं।

  • Security risk रहता है – यह internet connection एक public connection होता है जो की सबको एक ही facility से आता है इसलिए इसमें थोड़ा security का risk रहता है।
  • Remote Area में ज्यादा नहीं मिलता – बहोत कम ऐसे remote areas हैं जहाँ पर की हर तरह का Broadband महजूद है ,इसी वजह से वहां के लोग internet का लाभ ठीक से उठा नहीं पाते।
  • Fixed होता है – ज्यादा तर connection को अच्छे से चलने केलिए Modem का fixed ज़रूरी होता है जो की एक बड़ा disadvantage है।

CONCLUSION

आशा करता हूँ की आपको मेरा यह Broadband क्या है (What is Broadband in Hindi) पसंद आया होगा। मैंने आपको सरल भाषा में समझने कोशिश की है ताकि हर किसीको यह आसानी से समझ में आजाये। इसे पढ़ने के बाद अगर कुछ सवाल है तोह आप बेझिझक निचे comment करके पूछ सकते हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तोह इसे दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ share करदिजिये ताकि उनको भी इसके महत्व के बारेमे पता चले और साथ ही इसे social media पर भी share कर दीजिये ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग तक यह पहंच सके।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

 

Subscribe
Notify of
guest
4 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Sanjay Bhalla
Sanjay Bhalla
2 months ago

Can u tell me something about affiliate marketing

Kiran
Kiran
2 months ago

How to set up a broadband ???