Computer Virus क्या है और इससे system को कैसे बचाएं

computer-virus-क्या-है-hindi

नमस्कार दोस्तों , यह कहना गलत नहीं होगा की हम सब को पता है computer और mobile में सबसे बड़ा खतरा Virus ही होता है। यह computer virus क्या है ( What is Computer Virus in Hindi )और यह कैसे हमारे device केलिए खतरा बन जाता है ,आज हम इसी बिषय पर जानकारी हासिल करने जा रहे हैं आखिर तक बने रहिये।

Virus कोई automatically generated program नहीं होता बल्कि यह एक बनी बनायी program होता है जो की किसी कमजोर device को attack करने केलिए , ज़रूरी सुचना चुराने केलिए और किसी के काम में बाधा डालने केलिए बनाया गया होता है। बस थोड़ी सी गलती और यह किसी भी device में घुस जाते हैं। यह मुमकिन हो पाता है जब कोई user किसी unspecified mail को open करता है ,किसी unauthorized site पर travel करता है या फिर किसी porn sites पर visit करता है ,क्यों की ऐसी जगह पर virus भरे पड़े होते हैं।

वैसे तोह सबको पता है की virus क्या होता है पर सबको यह नहीं पता की अगर उनके device में virus घुस जाये तोह उससे कैसे बचे और क्या करने से हमेशा केलिए virus से बचे रहे ,आज हम इस लेख में सारी जानकारी जैसे की Computer virus क्या है ,यह system में कैसे घुस जाता है ,इससे कैसे बचा जा सकता है के बारेमे बात करने वाले हैं। तोह चलिए ज्यादा देरी ना करते हुए बिषय को शुरू करते हैं।

Computer virus क्या है ?

Computer Virus एक auto execute malicious program होता है जो की device में घुस कर computer के कार्य में बाधा उत्पन्न करता है ,यह ख़ास कर इसी मकसद से ही design किये गया होते हैं। यह internet और Emails के माध्यम से device पर छोड़े जाते हैं। यह device के boot memory में घुस कर system को धीमा कर देता है और data को destroy करता है जिससे की user को data recover करने में बहोत दिक्कत आती है।

आपके मन में यह सवाल भी आ रहा होगा की इसे मैंने इसे एक auto execute program क्यों कहा है। Virus अगर एक बार आपके system में enter कर जाता है उसे रोकना लभगग नामुमकिन हो जाता है ,यह तब ख़तम होता है जब यह system को बर्बाद ना करले। इसीलिए virus को enter करने से पहले ही रोकना पड़ता है कुछ Anti-virus software के मदद से।

Virus full form होता है Vital Information Resource Under Seize। इसका मतलब होता है किसी भी ज़रूरी जानकारी को forcefully access करके उसे destroy करदेना।

Computer Virus का इतिहास

Computer Virus का जन्म Robert Thomas के द्वारा सं 1971 को हुआ था। जो की BBN Technologies नामक एक company में काम करते थे और उसी दौरान उन्होंने एक ऐसा program बनाने का सोचा जो की दूसरे के system के आसानी से घुसके उसे access कर सके।
सबसे पहला इसका नाम रखा गया था Creeper जो की perfectly defined करता था इसके कार्य को। यह एक experimental program था जो की बनाया गया था यह देखने केलिए की क्या यह सच में दूसरे system से data चुराने में साक्ष्यं है।

Creeper को कुछ इसतरह programmed किया गया था की जब भी यह किसी system को access करने में कामियाब हो जाता था तब screen पर एक Message show करता था कुछ इस तरह  “ I’m the Creeper , Catch me if you can

फिर सं 1983 को Fred Cohen ने इस तरह के program को Computer Virus नाम से परिचित कराया।

Elk Cloner सबसे पहला ऐसा Virus है जो की सीधे boot sector पर हमला कर उसे पूरी तरह काबू में करने में कामियाब हुआ था।

वायरस के प्रकार ( What are Types Of Computer Virus )

Virus एक auto execute program है जो की अपना काम को पूरा करने बाद अपने आप destroy हो जाता है। इसके काईन प्रकार होते हैं जिसके बारेमे में निचे बताने जा रहा हूँ।

Boot Sector Virus

Boot sector virus सिस्टम म इस्तेमाल होने वाले floppy disk को attack करता है और कभी कबर हार्ड डिस्क के boot sector को भी attack करके files को corrupt करदेता है।

Direct Action Virus

Direct action virus ज्यादा तर .exe और .com files को को अटैक करते हैं और इसके duplicate files बनदेते हैं जिससे की user को original file access करने में दिक्कत आती है।

Resident Virus

यह virus system के RAM के अंदर होते हैं इसीलिए इन्हे resident virus कहते हैं। यह performance को slow करने के साथ files को overwrite करते हैं।

Multipartite Virus

यह ज्यादा spread होने वाला virus मैसे एक है जो की कईं तरह के unauthorized action करने में माहिर है। यह खतरनाक इसलिए है क्यों की यह executable files के साथ साथ boot sector को भी attack कर सकता है।

Polymorphic Virus

इस तरह का virus एक तरह का special encryption का इस्तेमाल करते हैं जिससे की किसी भी anti virus को इसे find करना मुश्किल हो जाता है। Polymorphic virus बहोत आसानी से खुदको replicate कर सकते हैं।

Overwrite Virus

Overwrite virus का काम होता है किसी file को overwrite करके उसका एक duplicate बनाकर original file को हमेशा केलिए corrupt करदेना। इससे छटकारा पानेका सिर्फ एक ही रास्ता है files को delete कर दीजिये।

File Infector Virus

यह virus भी system के files या तो program को attack करता है। जब भी user उस program को run करता है यह पुरे system में spread हो जाता है और device को slow करदेता है।

Macro Virus

इसे Micro language में programmed करके किसी application में embed कर दिया जाता है। जब भी वह application open होता है बहोत सारे unwanted actions अपने आप ही होने लगते हैं।

Rootkit Virus

इसे सबसे खतरनाक virus माना जाता है क्यूंकि यह system के root access को सबके लिए open करदेता है जिससे की attackers आसानी से इसे attack करके files को access करने में कामियाब हो जाते हैं।

Network Virus

Network virus LAN के मदद से पुरे network में spread होजाते हैं और उससे connected device में घुसके files को access करते हैं।

Stealth Virus

यह एक ऐसा virus है जो की anti virus के नज़र से बचके रहता है। Stealth virus को कुछ इसतरह programmed किया जाता है की यह antivirus को एक original program के रूप में दिखाई देता है। यह अपने आप ही कभी कभी खुद को system से delete करदेता है।

Spacefiller Virus

Spacefiller virus एक बहोत ही rare किसम का virus होता है जिसे की Cavity virus के नाम से जाना जाता है। यह खुद को files के empty section में install करके space fill करता है।

 कंप्यूटर की पूरी परिभाषा ?

Internet की परिभाषा ?

 

वायरस System में कैसे घुसते हैं

हम चाहे जितना भी care करलें अपनी health का हमे बीमारी होती ही है वैसे ही Computer को भी इसी Virus के कारण बीमारी होती है। हम अपने device को firewall protection भी provide करते हैं फिर भी कुछ गलतियों के वजह से यह Virus infected हो जाता है। कुछ गलतियां होती है जिसके वजह से यह आसानी से हमारे सिस्टम में घुस जाते हैं ,ऐसे ही कुछ गलतियों के बारेमे हम निचे पढ़ने वाले हैं।

Email Attachments – Virus को spread करने का easy तरीका होता है Emails। हम नाजाने दिनमे कितने emails receive करते हैं पर उनमे से कितने emails official होते हैं , बहोत काम और ज्यादा तर emails promotions और दूसरे तरह के advertisement के होते हैं। इन्ही emails के अंदर attackers अपने program को embed करके भेजते हैं तै जब भी उसे कोई user open करता है यह system में spread हो जाते हैं। 

Third-party applications – Software के अंदर Virus होना आजकल बहोत common हो गया है। हम अगर किसी third-party software को अपने system में install करते हैं तब इसमें ज्यादा chances होता है virus होने का। जब भी किसी आप किसी software को download करे यह ज़रूर चेक करें की यह पूरी तरह से safe है या नहीं। 

Unauthorized sites – Unauthorized sites बनाये ही इसीलिए जाते हैं की virus को spread किया जा सके । Internet पर ऐसे लाखों sites हैं जो की virus embeded होते हैं इनमे से ज्यादा तर Movie downloading sites , porn sites और application downloading sites होते हैं। 

कैसे पता चलेगा की System virus infected है

ज्यादातर लोग अपने storage मैं unidentified folders को देखके अंदाज़ा लगाते हैं की उनका device infected है। क्या होगा अगर virus duplicate files ना बना कर किसी दूसरे तरह से आपके system को infect करे ,इसीलिए हमे यह जानना ज़रूरी है की ऐसे क्या क्या sign हैं जिससे की यह पता चले की system virus infected है।

आईये ऐसे कुछ signs के बारेमे जानते हैं।

Un indentified folders – Storage में किसी unknown folder या files का अपने आप ही create हो जाना। 

Slow performance – Device का बिलकुल slow हो जाना। 

Automatic Actions – अपने आप ही फ़ोन में actions जैसे की files खुल जाना ,अप्प्स का open हो जाना। 

file corruption –  File का डिलीट हो जाना या फिर वह फाइल corrupt हो जाना। 

File replication – storage में एक file का अनेक replica बन जाना।

वायरस को रोकने का तरीका

System एक बार अगर Virus infected हो गया तोह उसे रोक पाना मुश्किल होता है और normal user केलिए तोह मुमकिन सा हो जाता है। कुछ ना कर पाने के वजह data धीरे धीरे delete और corrupt होता देखते रहते हैं और कुछ नहीं कर पाते। अब ऐसे में सिर्फ दो ही रस्ते हैं या तोह आप पहले से ही अपने system को virus protected रखें नहीं तोह helplessly देखते रहें system को बर्बाद होते हुए।

मैं आज ऐसे कुछ tips आपके साथ share करने वाला हूँ जिसके मदद से आप Virus को system से कोशो दूर रख सकते हैं ,इससे system virus infected होने से बचा रहते हैं।

  1. हमेशा system को password protected रखें क्यों की कोई भी authorization के बिना system में घुस नहीं सकता। password को हमेशा strong रखें ,strong मतलब letter , symbols और numbers का मिलता जुलता combination बनाये।
  2. फिर आता है system को हमेषा update रखना। outdated system को virus infection होनेका ज्यादा खतरा रहता है।
  3. हमेशा एक Antivirus install करके रखिये।
  4. जब भी आप किसी file को download करते हैं उसे सबसे पहले scan कर लीजिये।
  5. किसी भी unauthorized downloading site से files जैसे की films ,videos ,Mp3 ,games download ना करें।
  6. Email में अगर कोई file attached मिले तोह उसे ओपन ना करें ,अगर sender आपका जान पहचान का हो तभी उसे open करें।
  7. Pop-Up blocker का इस्तेमाल करें।

Spyware क्या है ?

Spyware एक ऐसा program होता है जो की आपके मर्ज़ी के बिना आपके system मैं install हो जाता है। यह आपके सारे गतिबिधियाँ जैसे की search queries और दूसरे actions को spy करता रहता है।

कभी कभी यह आपको ऐसे website पर भी redirect करदेता है जहाँ आप कभी जाना नहीं चाहेंगे।

Worm क्या होता है ?

Computer worms एक तरह malware होता है जो की जो की emails attachment के ज़रिये system में आता है। यह आपके mails के ज़रिये spread हो जाते हैं और आपके files जैसे की address book , webpages को attack करता है। आपके mail id का गलत फायदा उठाते हुए यह दूसरे IDs पर infected mails भी भेज सकता है।

यह system केलिए उतना खतरनाक तोह नहीं होता पर आपके performance और stability के ऊपर बुरा प्रभाव डालता है।

Trojan horse क्या होता है ?

Trojan horse एक तरह का program होता है जो की आपके system के दूसरे programs जैसे की screen saver के अंदर छिपे रहते हैं और धीरे धीरे अपने ऑपरेटिंग सिस्टम पर अटैक करते हैं। Trojan horse आपके system के root access को hackers केलिए open करने में मदद करते हैं।

यह एक ऐसा malware है जो खुद से spread ना हो कर virus और worms का सहारा लेता है।

computer Virus क्या है से आपने क्या सीखा 

उम्मीद है की आपको मेरा यह लेख computer virus क्या है (What is computer Virus in Hindi)और इससे बचने का तरीका पढ़के सब कुछ अच्छे से समझ में आ गया होगा। अगर आपने इसे अच्छे से पढ़ा है तोह यह आपके काम में ज़रूर आने वाला है ,इसके बावजूद भी अगर आपके मन में कुछ सवाल है तोह आप निचे comment section में बेझिझक पूछ सकते हैं।

 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments